Category: कहानी

0

ईर्ष्या से अपना ही अहित होता है

मनुष्य विपरीत विचारो में उलझता हुआ जीता है। उसके कुछ विचार सकारात्मक होते हैं और कुछ नकारात्मक। प्रेम, सद्भाव, सेवा और त्याग की प्रवृत्ति जहां जीवन के उत्थान का कारण बनती है, वहीं दूसरी...

0

संवेदना से मिलता है आनंद

संसार तभी आनंददायक होगा जब इसमें रहने वाला, यहां अपना दैनिक जीवन बिताने वाला मनुष्य भावनाओं और संवेदनाओं से भरा होगा। भाव-संवेदना रूपी गंगोत्री के सूख जाने पर व्यक्ति निष्ठुर बन जाता है। आज...